देश विदेश से कभी कभी ऐसी ख़बरें आती है जो हमे और आपको चौका देती है क्या आप ने कभी ऐसा सोचा होगा चिल्लाना भी जान ले सकता है ऐसा ही एक मामला अमेरिका वाशिंगटन में हुआ वहा के एक पूर्व प्लास्टिक सर्जन को साल 1985 में अपनी पत्नी की हत्या का दोषी ठहराया गया है. कोर्ट के सामने रॉबर्ट बिरेनबाम ने कबूला कि उन्होंने ही अपनी पत्नी की हत्या की . क्यों और कैसे की यह आश्चर्य में डालने वाला है. बिरेनबाम ने कोर्ट को बताया, ‘घटना के दिन पत्नी गेल काट्ज मेरे कान के पास बहुत जोर से चिल्लाई थी. मुझे बहुत अधिक गुस्सा आ गया. मैंने उसका गला घोंटकर उसको मार दिया . फिर लाश को चलती फ्लाइट से समंदर में फेंक दिया-

पत्नी को चुप कराना चाहता था पति

AbcNews की एक रिपोर्ट के मुताबिक रॉबर्ट बिरेनबाम ने कहा, ‘मैं उसे चुप कराना चाहता था. मैं चाहता था कि वो मुझपर चिल्लाना बंद कर दे और मैंने उसपर अटैक कर दिया. वो बेहोश हो गई. इसके बाद मैं उसकी बॉडी को हवाई जहाज से समुद्र के ऊपर ले गया. जहाज का दरवाजा खोला और शव को फेंक दिया.’ पूर्व प्लास्टिक सर्जन अनुभवी पायलट भी था.बिरेनबाम ने कोर्ट से कहा कि उस समय वह मेच्योर नहीं था और उसे पता नहीं था कि अपने गुस्से पर काबू कैसे पाया जाए.

रॉबर्ट बिरेनबाम को दोषी ठहराते हुए मैनहट्टन के एक पूर्व सहायक जिला अटॉर्नी डैन बिब ने कहा कि खुद को डॉक्टर कहने वाला ये आदमी एक मनोरोगी था. रॉबट के इस कबूलनामे ने इस केस से जुड़े हर एक शख्स को चौंका दिया है, क्योंकि यही थ्योरी अभियोजन पक्ष के वकीलों ने साल 2000 में कोर्ट के सामने पेश किया था.रॉबर्ट और गेल को जानने वाले एक व्यक्ति ने कहा कि कभी नहीं सोचा था कि डॉ. बिरेनबाम का नाम एक हत्यारे के रूप में बताना होगा. जानकारी के मुताबिक, रॉबर्ट बिरेनबाम और गेल 1980 के दशक की शुरुआत में मिले थे. गेल की बहन का कहना है कि बिरेनबाम ने शादी से पहले ही अपनी हिंसक प्रवृत्ति दिखानी शुरू कर दी थी. उसने एक बार अपने घर के टॉयलेट में गेल की बिल्ली को डुबोकर मारने की कोशिश की थी.

Leave a comment

Your email address will not be published.