आजकल लोगो की जिन्दगी में इंसानों से ज्यादा मोबाइल की एहमियत होगयी है .आज के समय में बच्चे से लेकर बूढ़े तक को मोबाइल की लत लग गई गयी है कोई एक पल भी इसके बिना नही रह सकता .और बात करे आई फ़ोन की तो हर कोई इसको पाने के लिए क्रेजी है .लेकिन आई फ़ोन खरीद पाना सबके बस की बात नही है .आपने सोशल मिडिया पर बहुत से ऐसे विडियो देखे होंगे जिसमे दिखाया गया है किसी ने आई फ़ोन लेने के लिए किडनी बेच दी .चलो माना ये विडियो तो लोगो ने ऐसे ही फन के लिए बनाई है . लेकिन आज हम आपको एक ऐसे लड़के के बारे में बताने वाले है जिसने iPhone 4 खरीदने के लिए 7 साल पहले अपनी किडनी बेच दी थी .जओओं वेंग नाम का ये लड़का चीन का रहने वाला है .किडनी बेचने की वजह से उन्हें बहुत सी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओ से गुजरना पढ़ रहा है .फ़िलहाल जओओं वेंग अस्पताल में अपना इलाज करवा रहे है और इन दिनों सोशल मीडिया पर सुर्खियों में बने हुए है .

17 साल के जआओ वैंग ने ऐसा स्कूल में कूल दिखने के लिए किया. iDrops News को दिए इंटरव्यू में जओओं ने कहा कि ‘मुझे किसी ने बताया था कि जिंदा रहने के लिए एक किडनी की जरूरत नहीं होती, एक किडनी पर भी बेहतर तरीके से जिया जा सकता है. ऐसे में मुझे आईफोन लेने के लिए रुपयों की जरूरत थी, इसलिए मैंने वह खरीदने के लिए एक किडनी बेच दी, क्योंकि मुझे लगा दूसरी किडनी की मुझे कोई जरूरत नहीं है.’ बता दें अब जआओ की उम्र 24 साल है और अब उसकी कंडीशन इतनी खराब हो चुकी है कि उसे हिलने में भी दिक्कत होती है.

अब दूसरों पर निर्भर है जिंदगी

जआओ अब पूरी तरह से बेड पर है और डायलिसिस पर जिंदगी बिता रहे है. बता दें जआओ ने जब आईफोन खरीदने  के लिए अपनी किडनी बेची थी उस वक्त अस्पताल ने उसे किडनी के 22 हजार युआन (2.24 लाख) रुपये दिए थे. वहीं अस्पताल ने भी जआओ को कहा था कि कुछ समय बाद उनकी लाइफ सामान्य हो जाएगी, लेकिन जैसे-जैसे समय गुजरने लगा उनकी तबीयत बिगड़ती रही और आज उसकी तबीयत इतनी खराब हो चुकी है कि वह बेड से हिल भी नहीं पाता और उसे हर काम के लिए दूसरों पर निर्भर रहना पड़ता है.

किडनी लेने वाला अस्पताल ही करा रहा इलाज

This image has an empty alt attribute; its file name is navbharat-times-13-1024x767.jpg

रिपोर्ट्स के मुताबिक किडनी के निकाले जाने के बाद इंफेक्शन हो गया, जिसके बाद यह इंफेक्शन दूसरी किडनी में भी पहुंच गया और जआओ की दूसरी किडनी में डैमेज हो गई. जिसके बाद जआओ के परिवार ने इलाज के लिए बड़ी रकम का इंतजाम किया और उसे अस्पताल में भर्ती कराया. वहीं कुछ समय बाद जिस अस्पताल ने जआओ की किडनी निकाली थी उसने जिम्मेदारी लेते हुए जआओ के इलाज के लिए अपने फंड से बड़ा अमांउट दिया और अब जआओ के डायलिसिस की जिम्मेदारी भी अस्पताल ने ले ली है.

Leave a comment

Your email address will not be published.