दोस्तों ज्यादा लम्बा सफर हो तो लोग बस की बजाय ट्रैन से सफर करना पसंद करते है . क्योकि बस से ज्यादा सविधा ट्रेन में मिलती है . फ्रेश होने के लिए ट्रेन में बाथरूम और शौचालय जैसी सुविधा उपलब्ध होती है . और यदि आप बैठे बैठे थक जाओ तो आप ट्रेन में ही थोडा बहुत टहल सकते हो और जब आप चाहो तो स्लीपर पर सो सकते हो .आजकल सभी लोग कंही भी जाते है तो वहा के खुबसूरत नजारो को अपने मोबाइल में कैद कर लेते है .अब ऐसे में आप ट्रेन के सफर के दौरान यदि खिड़की से खुबसूरत नज़रो को कैद करते हो और अचानक आपका फ़ोन चलती ट्रेन से गिर जाये तो .

ऐसा होने पर आपको यही लगेगा कि ‘लग गया हजारों का चुना। अब फोन मिलने की कोई उम्मीद नहीं है।’ लेकिन ऐसा नहीं है आपको बिलकुल भी घबराने की जरूरत नही है । आपको अभी भी आपका मोबाईल मिल सकता है। बस आपको इसके लिए एक खास प्रक्रिया को फॉलो करना होगा।

चलती ट्रेन से मोबाईल गिर जाए तो ध्यान रखें ये बातें

1. यदि आपका मोबाईल चलती ट्रेन से गिर जाए तो सबसे पहले घबराइए नहीं। आपको सबसे पहले रेलवे ट्रैक के किनारे लगे हुए पोल पर लिखे नंबर या फिर साइड ट्रैक के नंबर को खोजना होगा। ये रेलवे ट्रेक पर कुछ-कुछ दूरियों पर लगे होते हैं। आपको बस इन पर लिखे नंबर को याद रखना है। यदि आप याद न रख सकें तो इसे कहीं नोट भी कर सकते हैं।

2. अब आप ट्रेन में बैठे किसी अन्य यात्री का मोबाईल उधार लें और उससे RPF के हेल्पलाइन नंबर 182 पर कॉल करें। आपको उन्हें अपने मोबाईल के ट्रेन से गिरने की सूचना देनी है। इस दौरान आप उन्हें याद से पोल या ट्रैक नंबर बता दें। इससे उन्हें सही लोकैशन पर मोबाईल खोजने में मदद मिलेगी।

3. आपकी शिकायत मिलते ही RPF हेल्पलाइन नंबर की टीम जहां मोबाईल गिरा है उस क्षेत्र की रेलवे पुलिस से संपर्क करेगी। फिर वह पुलिस आपके खोए हुए मोबाईल की तलाश शुरू कर देगी। यदि उन्हें फोन मिलता है तो भारतीय रेलवे आपसे संपर्क करेगा।

4. इसके अलावा आप इस मामले की जानकारी GRP के हेल्पलाइन नंबर 1512 पर कॉल कर भी दे सकते हैं। वहीं रेलवे के हेल्पलाइन नंबर 138 पर कॉल कर के भी सहायता मांगी जा सकती है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हेल्पलाइन नंबर 138 का इस्तेमाल आप यात्रा में आने वाली किसी भी परेशानी में कर सकते हैं। इस नंबर से आपको मदद मिल जाएगी। ट्रेन में कोई इमरजेंसी होने या कोई दुर्घटना होने पर भी इस नंबर पर कॉल कर मदद मँगवाई जा सकती है।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। यदि हाँ तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि बाकी लोग भी रेल सफर में मुसीबत में पड़ने के दौरान मदद प्राप्त कर सके।

Leave a comment

Your email address will not be published.