दोस्तों अभी कुछ ही दिनों में दिवाली का त्यौहार आने वाला है .इस त्यौहार को लोग बड़ी धूमधाम के साथ मनाते है. अपने घरो को दुल्हन की तरह सजाते है जिसके लिए बहुत दिन पहले से ही सभी खरीदारी शुरू कर देते है . धनतेरस के दिन लोग सबसे ज्यादा खरीदारी करते है .इस दिन सोना ,चाँदी ,खरीदना शुभ होता है लेकिन यदि जो लोग सोना या चांदी नही खरीद सकते वो लोग धनतेरस के दिन झाड़ू और गोल धनिया भी खरीद सकते है . लेकिन बहुत से ऐसे काम है जिसे धनतेरस के दिन बिलकुल भी नही करना चाहिए. क्योंकि इस दिन उन कार्यो को करने से माँ लक्ष्मी नाराज हो जाती है .

धनतेरस पर न करें ये काम

कांच या ऐसी मूर्ति की पूजा न करें

धनतेरस के दिन लोग माता लक्ष्मी, कुबेर और भगवान धन्वंतरि की पूजा करते हैं। इस दिन आपको ध्यान रखना ​है कि आप कांच या प्लास्टर ऑफ पेरिस से बनी हुई मूर्तियों का पूजन न करें।

मना होता है सोना

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, व्यक्ति को दिन में नहीं सोना चाहिए। धनतेरस और दिवाली को दिन में सोने से आलस्य और नकारात्मकता आती है। इस दिन परिवार के सदस्यों को प्रेम और सौहार्दय से रहना चाहिए। घर में कलह और झगड़े से बचें।

न दें उधार

ऐसी मान्यता है कि दिवाली और धनतेरस के दिन किसी को भी रुपये उधार नहीं देना चाहिए। लोक मान्यता है कि ऐसा करने से अपनी लक्ष्मी दूसरे के पास चली जाती हैं। हालांकि जरुरतमंद की मदद करना भी पुण्य का काम होता है।

न रखें कूड़ा और गंदगी

कहा जाता है कि माता लक्ष्मी उस स्थान पर ही निवास करती हैं, जो साफ-सुथरी और सकारात्मक वातावरण वाली हो। ऐसे में आपको भी दिवाली और धनतेरस पर घर की अच्छे से साफ सफाई करनी चाहिए। ध्यान रखें कि घर में कूड़ा, रद्दी और गंदगी न हो।

जूता-चप्पल

वास्तुशास्त्र में घर के मुख्य दरवाजे का बहुत ही महत्व है। उसे सकारात्मकता का वाहक माना जाता है। घर के मुख्य दरवाजे के ठीक सामने कोई पेड़, बीम या कोई रुकावट नहीं होनी चाहिए। प्रवेश आसान होना चाहिए। घर के मुख्यद्वार को सजाकर रखें और वहां पर जूता-चप्पल नहीं रखना चाहिए। धनतेरस और दिवाली के दिन माता लक्ष्मी का आगमन मुख्यद्वार से ही होगा। ऐसे में उसे साफ, सुथरा और सुंदर रखें।

Leave a comment

Your email address will not be published.