दोस्तों गरीब आदमी अपने परिवार को पालने के लिए मेहनत मजदूरी करता है .ऑटो चलाता है रिक्शा चलता है पूरा दिन और देर रात तक भी रिक्शा चलाकर वो कितना कमा लेता होगा . इतना तो कमा ही लेता होगा कि अपने परिवार को दो वक्त की रोटी दे सके .लेकिन पता नही ऐसा क्या हुआ कि इनकम टैक्स विभाग ने एक रिक्शा चालक को 3 करोड़ रुपये का नोटिस भेज दिया . रिक्शा चालक नोटिस देख कर बुरी तरह घबरा गया कि अब वो 3 करोड़ रुपये कैसे चुकाएगा और क्यों ? आपको बता दे ये खबर उत्तर प्रदेश के मथुरा की है . इनकम टैक्स विभाग द्वारा भेजे गये इस नोटिस के मामले में रिक्शा चालक ने पुलिस से मदद लेने के लिए गया .अब देखते है पुलिस इस मामले में क्या कार्यवाही करती है .

रिक्शा चालक को चुकाने होंगे 3 करोड़ रुपये

मथुरा के बाकलपुर क्षेत्र के अमर कॉलोनी निवासी प्रताप सिंह ने आईटी विभाग से नोटिस मिलने के बाद हाईवे थाने में धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई है. प्रताप सिंह रिक्शा चलाते हैं. हालांकि, पुलिस ने इस मामले में अभी कोई केस दर्ज नहीं किया है. लेकिन मामले की जांच की जा रही है.

पैन कार्ड से हुआ फ्रॉड

प्रताप सिंह ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो अपलोड कर पूरा मामला बताया है. प्रताप के अनुसार, 15 मार्च को उसने बाकलपुर में जन सुविधा केंद्र में पैनकार्ड के लिए आवेदन किया था. बैंक ने उससे पैनकार्ड जमा करने के लिए कहा था. जन सुविधा केंद्र की ओर से प्रताप को कहा गया था कि उसका पैन कार्ड 1 महीने के अंदर आ जाएगा. लेकिन नहीं आया. और बाद में उसे पता चला कि उसके पैन कार्ड को संजय सिंह नाम के व्यक्ति को दे दिया गया.

आईटी डिपार्टमेंट ने भेजा नोटिस

इस बीच प्रताप कई बार केंद्र पर पैन कार्ड के लिए गया तो उसे पैन कार्ड का कलर प्रिंट दे दिया गया. दरअसल, रिक्शा चालक पढ़ा लिखा नहीं था जिसकी वजह से उसे पता नहीं चला कि पैन कार्ड ऑरिजनल है, या फोटोकॉपी. प्रताप को जब आईटी डिपार्टमेंट से कॉल आई तो उसके हाथ-पांव फूल गए.

एक साल का टर्नओवर 43.44 करोड़ रुपये

आपको बता दें कि आईटी विभाग ने प्रताप से 3,47,54,896 रुपये चुकाने के लिए कहा है. प्रताप ने बताया कि उसे अधिकारियों ने बताया कि किसी ने उसका पैन कार्ड ले लिया है और उसके नाम से जीएसटी नंबर बनवा लिया है. इस पैन कार्ड पर करीब 43.44 करोड़ रुपये का टर्नओवर एक ही साल (2018-2019) में कर डाला. अधिकारियों ने प्रताप को सलाह दी कि वह इस मामले में एफआईआर दर्ज कराए और दोषियों को जेल भिजवाए. बहरहाल, मामले की जांच चल रही है.

Leave a comment

Your email address will not be published.